Planetary

सूर्य का वृश्चिक राशि में गोचर

सूर्य का वृश्चिक राशि में गोचर

सूर्य का गोचर ज्योतिष में बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता है, क्योंकि सूर्यदेव को सभी ग्रहों का राजा कहा गया है और यह आरोग्य के देवता हैं, जो समस्त संसार को अपने प्रकाश से जीवन ऊर्जा प्रदान करते हैं। सूर्य मान-सम्मान और कार्यक्षेत्र में सरकारी सेवाओं में कार्यरत होने का कारक माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में सूर्य की स्थिति शुभ होती है तो इससे उन्हें राजनीतिक जीवन में सफलता प्राप्त होने की संभावना काफी बढ़ जाती है। 

हालांकि दूसरी तरफ यदि किसी कुंडली में सूर्य की स्थिति कमजोर हो तो इससे जातक को समाज में मिलने वाले मान सम्मान में कमी, परिवार में पिता के साथ मतभेद और आँख से जुड़ी कोई समस्या उत्पन्न होने की संभावना रहती है। सूर्य का गोचर वैदिक ज्योतिष में अत्यंत महत्वपूर्ण माना जाता है| क्योंकि यह आरोग्य के देवता हैं, जो समस्त संसार को अपने प्रकाश से जीवन ऊर्जा प्रदान करते हैं। 

सूर्य का वृश्चिक राशि में प्रवेश 16 नवंबर 2020 को सुबह 06 बजकर 54 मिनट पर अपनी नीच राशि तुला से निकलकर अपनी मित्र राशि वृश्चिक में प्रवेश कर जाएगा। यह 15 दिसंबर 2020 तक इस राशि में रहेगा और 21 बजकर 32 मिनट पर धनु में प्रवेश करेगा। सूर्य के इस राशि परिवर्तन को ”वृश्चिक संक्रांति” कहा जाता है, और इस दिन को स्नान-दान-तर्पण आदि के लिए बहुत शुभ माना जाता है| सूर्य इस गोचर काल के दौरान अपनी मित्र राशि में होंगे। तो आइए जानते हैं कि सूर्य का वृश्चिक राशि में यह गोचर सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव डालेगा।

मेष राशि (Aries)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन आठवें भाव में हो रहा है। वैदिक ज्योतिष में अष्टम भाव को काफी रहस्यमय माना गया है। इस गोचर के दौरान इस राशि के जातकों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। यदि आपको पिछले कुछ समय से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं तो आप हेल्थ चेकअप करा सकते हैं। आपके परिवार में पत्नी और पिता का स्वास्थ्य आपके लिए चिंता का विषय बन सकता है। कामकाज के सिलसिले में आपको छोटी-मोटी बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। यदि अपनी दिनचर्या में ध्यान और योग आदि क्रियाओं को शामिल करें तो आपको तनाव से राहत मिल सकती है। यह समय आपके लिए अनुकूल नहीं है इसलिए पर्सनल और प्रोफेशनल मामलों में कोई भी बड़ा फैसला लेने से बचें। 

जीवन में किसी भी समस्या का समाधान जानने लिए प्रश्न पूछें

वृषभ राशि (Taurus)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन सातवें भाव में हो रहा है। इस गोचर की अवधि में दांपत्य जीवन में तनाव बढ़ने की संभावना है और आपके अपने पार्टनर से मतभेद हो सकते हैं। आपके रिश्ते में तनाव की वजह आपका अहंकार होगा, इसलिए इस पर नियंत्रण बनाए रखें। यदि आप साझेदारी में व्यवसाय कर रहे हैं तो इस दौरान कुछ ग़लतफहमी और मतभेदों का सामना भी करना पड़ सकता है।इस समय आप शारीरिक रूप से मजबूत रहेंगे लेकिन मानसिक रूप से तनावग्रस्त रहने के आसार हैं। आपके व्यक्तिगत जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहने की संभावना है।   

मिथुन राशि (Gemini)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन छठे भाव में हो रहा है। सूर्य का यह गोचर मिथुन राशि के जातकों के लिए शुभ रहेगा। इस गोचर काल के दौरान आपकी प्रतिस्पर्धी क्षमता में वृद्धि होगी जिसके चलते आप बाकी लोगों से अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। इस अवधि में आप अपने लक्ष्यों और कार्यों को सफलता पूर्वक पूरा कर पाएंगे। इस राशि के जो जातक नई जॉब की तलाश में हैं उन्हें कई अवसर इस दौरान प्राप्त हो सकते हैं। और जो लोग वर्तमान में जॉब कर रहे हैं उन्हें अच्छे फल प्राप्त होंगे, आपकी पदोन्नति हो सकती है या आपकी आमदनी बढ़ सकती है। इस समय सूर्य आपकी मुख्य खूबियों को निखारने में मदद करेगा।

कर्क राशि (Cancer)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन पांचवें भाव में हो रहा है। सूर्य के इस भाव में गोचर करने से आपकी संतान को कुछ शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है, और यदि आप विद्यार्थी हैं तो आपकी शिक्षा में व्यवधान आने के योग बनेंगे क्योंकि आपकी एकाग्रता इस समय में भंग हो सकती है तथा शारीरिक रूप से भी आप अपने अंदर गर्मी और पित्त की असंतुलित स्थिति को महसूस कर सकते हैं, जिससे आपके कामों में भी कुछ विलंब हो सकता है। महत्वपूर्ण परियोजनाएं अटक सकती हैं, जिसकी वजह से आपको और अधिक ध्यान देकर काम करने होंगे। 

सिंह राशि (Leo)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन चौथे भाव में हो रहा है। इस दौरान मिले-जुले परिणाम प्राप्त होंगे| कार्यक्षेत्र की बात करें तो यहाँ आप अपनी मेहनत के बलबूते पर अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल रहेंगे। लिहाजा करियर के दृष्टिकोण से आपके लिए सूर्य का ये गोचर फलदायी साबित होगा। हालांकि गोचर की अवधि के दौरान आपके अहंकार में वृद्धि हो सकती है, लेकिन आप उससे बाहर निकलने में कामयाब रहेंगे। आपके निर्णय लेने की क्षमता में वृद्धि होगी और आप जीवन में आने वाली सभी परिस्थितियों के लिए खुद को सबल बना पाने में कामयाब रहेंगे। लेकिन आपकी माता को स्वास्थ्य से सम्बंधित दिक्कते हो सकती है, इसलिए सावधानी बरते। 

कन्या राशि (Virgo)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन तीसरे भाव में हो रहा है। सूर्य के इस गोचर का आपको समुचित लाभ मिलेगा और आपके साहस और पराक्रम में बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। आप हर काम को पूरी एकाग्रता और निष्ठा के साथ संपन्न करेंगे तथा आपकी जीवन ऊर्जा में भी वृद्धि होगी। इस दौरान कुछ यात्राएं भी आपको करनी होंगी,जो आपको कुछ नया मार्गदर्शन देंगी। यह गोचर आपके शत्रुओं पर भारी पड़ेगा और आप उन्हें किसी भी हाल में आगे बढ़ने नहीं देंगे, जिससे आप मानसिक तौर पर भी मजबूत दिखेंगे। इस गोचर काल में आपको अपने प्रयासों का शुभ फल प्राप्त होगा और करियर में भी उत्थान के योग बनेंगे। 

तुला राशि (Libra)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन दूसरे भाव में हो रहा है। यहां स्थित सूर्य आपको तेजस्वी बनाएंगे| लेकिन पारिवारिक मामलों में आपको कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आप व्यावहारिक होने की बजाय नियमानुसार चलने का प्रयास करेंगे, जिससे परिवार के अन्य लोगों को असुविधा हो सकती है। इससे आपके रिश्तों पर खराब असर पड़ सकता है। इस गोचर काल में स्वास्थ्य में कुछ बदलाव आएँगे और आपको बुखार, सिर दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यदि आप पहले से ही शादीशुदा हैं तो आपकी संतान की प्रगति के लिए भी यह समय उत्तम रहेगा।

वृश्चिक राशि (Scorpio)

वृश्चिक राशि वालों के लिए सूर्यदेव आपकी ही राशि में गोचर करेंगे| सूर्य का गोचर आपके लिए मिश्रित परिणाम लेकर आएगा, आपका आत्मबल मजबूत होगा और आपकी सोचने समझने की शक्ति प्रबल  होगी। आप मुश्किल से मुश्किल समस्या का हल निकालेंगे और उस पर विजय प्राप्त करेंगे लेकिन आपके अंदर अभिमान भी जाग सकता है, जिसका असर आपके रिश्तों को खराब कर सकता है। सूर्य का यह गोचर आपके दांपत्य जीवन के लिए अनुकूल नहीं माना जा सकता और ऐसे में आप और आपके जीवनसाथी के मध्य मतभेद बढ़ सकते हैं और अहम का टकराव हो सकता है। इस समय में आपको धन संपत्ति की प्राप्ति हो सकती है और अचल संपत्ति अर्जित करने के योग भी बलवान बन रहे हैं।

धनु राशि (Sagittarius)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन बारहवें भाव में हो रहा है। सूर्य के इस गोचर के दौरान आपको विदेश यात्रा का सुख प्राप्त हो सकता है। सूर्य के गोचर की इस अवधि में आप अपने शत्रुओं पर विशेष रूप से विजय प्राप्त कर सकते हैं। इस दौरान आपको कुछ मामलों में जहाँ सकारात्मक लाभ प्राप्त होंगें वहीं कुछ मामलों में नकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिल सकते हैं। इस दौरान यदि आपका कोर्ट कचहरी में कोई मामला चल रहा है तो उसमे फैसला आपके पक्ष में आ सकता है। अगर आर्थिक पक्ष की बात करें तो, गोचर की अवधि में आपको आर्थिक रूप से ख़ासा नुकसान पहुँच सकता है। इसलिए अपने ख़र्चों पर काबू रखें|

Tarot Reader

मकर राशि (Capricorn)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन ग्यारहवें भाव में हो रहा है। इस भाव में सूर्य का गोचर आर्थिक दृष्टि से  लाभदायक सिद्ध होगा और आपकी प्रगति दिन-प्रतिदिन बढ़ेगी। अपने धन को सही जगह निवेश करके अपनी आमदनी को बढ़ाने का प्रयास आप करेंगे। सरकारी क्षेत्र से भी लाभ के योग बनेंगे और यदि आप जॉब करते हैं तो आप के वरिष्ठ अधिकारियों का सहयोग आपको मिलेगा। व्यापार के दृष्टिकोण से भी यह गोचर काफी अनुकूल परिणाम देने वाला साबित होगा। यदि आप विद्यार्थी हैं तो शिक्षा के मामले में यह गोचर अधिक अनुकूल नहीं है, इसलिए आपको पूर्ण निष्ठा और एकाग्रता के साथ पढ़ाई पर ध्यान देना होगा, नहीं तो परिणाम भिन्न हो सकते हैं।  इस समय में लंबे समय से अटकी हुई कोई इच्छा पूरी हो सकती है, जिससे आप काफी प्रसन्न रहेंगे। 

कुंभ राशि (Aquarius)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन दशवें भाव में हो रहा है। सूर्य का कर्म स्थान में दिग्बली होकर गोचर करना कुम्भ राशि के जातकों के लिए अत्यंत शुभ रहने वाला है| नौकरी के क्षेत्र से जुड़े जातक जो किसी नई नौकरी की तलाश में हैं, उन्हें इस समय के दौरान अच्छी नौकरी मिल सकती है। और जो लोग अपनी मौजूदा नौकरी में हैं उन्हें भी इस समय के दौरान कार्य स्थल में ही उच्च पदों पर आसीन होने का मौका भी मिलने की संभावना है। इस समय के दौरान आपके सहकर्मी और आपके अधीनस्थ काम करने वाले आपके प्रयासों में आपका भरपूर समर्थन करेंगे। इस दौरान नौकरी कर रहे जातकों के संबंध अपने वरिष्ठ अधिकारियों से भी बढ़िया बनेंगे। यदि आप सरकारी क्षेत्र में कार्यरत हैं तो यह गोचर आपके लिए और भी अच्छा रहने वाला है। 

मीन राशि (Pisces)

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन नवमें भाव में हो रहा है। यह गोचर आपके लिए मिश्रित परिणाम लेकर आएगा इस समय उन व्यापारियों को जिनका व्यवसाय विदेश से जुड़ा हुआ है उन्हें इस वक़्त जबरदस्त मुनाफ़ा होने की संभावना है। इस समय अवधि में आपके पिताजी का स्वास्थ्य बिगड़ सकता है और वे बीमार पड़ सकते हैं। आपके मान-सम्मान में निस्संदेह वृद्धि होगी और समाज के कामों में आपका नाम होगा। आप परोपकार के कार्य में संलिप्त रहेंगे। आपको तीर्थाटन करने का मौका मिलेगा और किसी अच्छे तीर्थ स्थान पर जाकर मानसिक शांति का अनुभव करेंगे। इस गोचर के प्रभाव से आपकी कार्यकुशलता मजबूत होगी तथा आप स्वयं के बल पर अपनी स्थिति को बेहतर बनाएँगे।

यह भी पढ़ें: जानिए, ज्योतिष के अनुसार कब बनता है विवाह योग?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *